Health

हार्ट अटैक से बचने के लिए कौन सी एक्सरसाइज है ज्यादा फायदेमंद, हार्वर्ड ने दिया यह टिप्स, जानिए क्या है यह

हाइलाइट्स

अगर कोई व्यक्ति 40 साल का है तो उसका हार्ट रेट एक्सरसाइज के समय 180 से ज्यादा नहीं होना चाहिए.
अगर पुश-अप्स को रोजाना किया जाए तो हार्ट पर दबाव की सहन क्षमता को बढ़ाता है.

Push ups prevent heart attack: आधुनिक भाग-दौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास समय का नितांत अभाव होने लगा है. इस कारण उनका लाइफस्टाइल गतिहीन होने लगता है. उन्हें पैदल चलने या शारीरिक गतिविधियों के लिए समय नहीं मिलता. दूसरी और तरह-तरह के अनहेल्दी फूड ने लाइफस्टाइल से संबंधित बीमारियों को बढ़ा दिया है. इनमें मोटापा, टाइप 2 डायबिटीज और हार्ट से संबंधित बीमारियां सबसे ज्यादा होने लगी है. आए दिन हार्ट अटैक और स्ट्रोक के मामले में तेजी से वृद्धि देखी गई है. हालांकि कई ऐसे मामले देखे गए हैं जिनमें 25 से 30 साल के व्यक्तियों को भी हार्ट अटैक हुआ है. पर एक्सपर्ट की मानें तो 40 साल के बाद हार्ट से संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है.

एक्सरसाइज हमारी ओवऑल हेल्थ के लिए बहुत फायदेमंद है लेकिन कौन सी एक्सरसाइज हार्ट अटैक से बचने के लिए ज्यादा फायदेमंद है. हार्वर्ड स्कूल ऑफ मेडिसीन की एक स्टडी में दावा किया गया था कि जो लोग नियमित रूप से पुश अप्स करते हैं, उनमें कई बीमारियों का खतरा कम कम हो जाता है. इनमें हार्ट अटैक, कार्डिएक अरेस्ट और स्ट्रोक जैसी जानलेवा जटिलताएं प्रमुख रूप से शामिल था.

स्टडी में सामने आई ये बात

जामा नेटवर्क में प्रकाशित इस स्टडी में पुश अप्स के फायदे पर विश्लेषण किया गया. इसमें पुश करने के समय और बारंवारता पर भी ध्यान दिया गया. स्टडी में अग्निशमन दल के लोगों को शामिल किया गया था. स्टडी में पाया गया कि जिस व्यक्ति ने 30 सेकेंड के अंदर 40 पुश अप्स किए, उनमें हार्ट अटैक, हार्ट फेल्योर और अन्य तरह के कार्डियोवैस्कुलर जटिलताओं का जोखिम अगले 10 साल तक न के बराबर था. वहीं जिस व्यक्ति ने 30 सेकेंड के अंदर 10 से कम बार ही पुश अप्स कर पाए उनमें आगे हार्ट अटैक का जोखिम पाया गया.

हार्ट की सहन शक्ति को बढ़ाता है पुश अप्स

इंडियन एक्सप्रेस ने फोर्टिस एस्कॉर्ट हार्ट अस्पताल में इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी के डायरेक्टर डॉ विशाल रस्तोगी से इस रिसर्च पर तफ्सील से बात की है. उन्होंने कहा, “पुश अप्स ऐसी एक्सरसाइज है जिसका प्रेशर शरीर के लगभग सभी मसल्स पर पड़ता है. इससे शरीर में लचीलापन आता है और नसें फ्री हो जाती है. वहीं मसल्स का फंक्शन बेहतर होता है. यह ऐसी एक्सरसाइज है जिसे घर पर भी आसानी से किया जा सकता है. पुश अप्स शरीर के अंगों में मजबूती लाता है. इस तरह देखा जाए तो पुश-अप्स के कई फायदे हैं.” डॉ. विशाल रस्तोगी ने बताया कि पुश अप्स करने के दौरान बाहें, छाती, हिप्स और पैर के कई मसल्स में हलचल पैदा होती है. अगर इसे मॉडरेट तरीके से किया जाए तो यह हार्ट की हेल्थ को मजबूती देता है. अगर पुश-अप्स को रोजाना किया जाए तो हार्ट पर दबाव की सहन क्षमता को बढ़ाता है. इससे हार्ट पर किसी भी तनाव की स्थिति को झेलने की क्षमता बढ़ती है. इससे ब्लड प्रेशर नॉर्मल हो सकता है.

पुश अप्स से पहले टीएमटी टेस्ट कराना जरूरी

डॉ. विशाल रस्तोगी ने बताया कि पुश अप्स हार्ट के लिए बेहतरीन एक्सरसाइज जरूर है लेकिन यदि आपकी उम्र 40 साल हो चुकी है तो इससे शरीर पर पड़ने वाली क्षमता का आकलन जरूरी है. यानी पुश अप्स के प्रेशर को आपका हार्ट झेल सकता है या नहीं, इसकी जांच जरूरी है. इसके लिए टीएमटी टेस्ट कराना आवश्यक है. उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति 40 साल का है तो उसका हार्ट रेट एक्सरसाइज के समय 180 से ज्यादा नहीं होना चाहिए. अगर ज्यादा होता है तो इससे अचानक हार्ट अटैक का खतरा हो सकता है. इसलिए बेहतर यही रहेगा कि एक बार डॉक्टर से मिलकर आवश्यक जांच करा लें.

इसे भी पढ़ें-हेल्दी जीवन के लिए सिर्फ 8 सूत्र ही काफी, अपनाएंगे तो उम्र में 20 साल का हो जाएगा इजाफा, तन-मन से हमेशा रहेंगे खुश और जवान

इसे भी पढ़ें-इस सेज की चाय के बारे में जानते हैं आप? पीने से नाश हो जाती है 5 बड़ी बीमारियां, जानें हैरान करने वाले फायदे

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Uh oh. Looks like you're using an ad blocker.

We charge advertisers instead of our audience. Please whitelist our site to show your support for Nirala Samaj